Hindi Story

एक बालक की ईमानदारी | Moral Story in Hindi

Advertisement

एक छोटे से गांव में एक किसान का परिवार रहता था । उस किसान के दो बेटियां और एक बेटा था उसका नाम रवि था । लड़का स्वभाव से चंचल था, किंतु ईमानदार और सुलझा हुआ था । एक दिन वह खेलता हुआ अपने पड़ोस में चला गया ।

यह भी जरूर पढ़े : 101+ Short Stories in Hindi for Kids with Moral

किन्तु पड़ोसी कही बाहर गए हुवे थे । घर बिल्कुल खाली था । लड़के से पूरे घर में देखा किंतु उसे कोई नही मिला । गर्मी का मौसम था, इसलिए उसे प्यास लग गई । प्यास लगने के कारण वह पड़ोसी की रसोई में गया और पानी पीने लगा ।

यह लेख भी जरूर पढ़े :- तोरण मारने की प्रथा

लड़का जब पानी पी रहा था, तब रसोई में उसे मिठाईयां रखी दिखाई पड़ी । लड़का आखिर था तो बच्चा ही ना, लड़के का मन किया की थोड़ी सी मिठाई चख लेता हूं, किंतु फिर मन में सोचा कि यह तो चोरी होगी । इसलिए वह पानी पीकर रसोई से जाने लगा ।

Advertisement

यह पीछे खड़ा पड़ोसी देख रहा था, और उसने बच्चे से पूछा…

पड़ोसी : क्या तुम्हे मिठाई पसंद नही हे रवि ।

बालक : पसंद तो बहुत हे अंकल ।

Advertisement

पड़ोसी : तो फिर तुमने मिठाई क्यों नही खाई, तुम्हे तो कोई देख भी नहीं रहा था?

बालक : अंकल अगर बिना पूछे खाता तो चोरी होती ना, और कोई देखे ना देखे किंतु मेरी आत्मा मेरा मन तो देख रहा था । वह इस की अनुमति नहीं देता है की किसी के घर में उसके बिना पूछे कुछ चीज लू।

पड़ोसी : वाह बेटे बहुत खूब तुम्हारी ईमानदारी से मन बहुत प्रसन्न हुआ । लो यह मिठाई और सदैव अपने इसी स्वभाव पर टिके रहना ।

एक बालक की ईमानदारी
एक बालक की ईमानदारी | Moral Story in Hindi
प्रेरणा : जीवन में सदैव सत्य और ईमानदारी से चलता चाहिए चाहे कितना भी सरल अवसर मिले आसानी से कुछ गलत पाने का ।

आपको हमारी यह कहानी एक बालक की ईमानदारी अगर पसंद आई हो एवम् कहानी से कुछ सीखने को मिला हे तो कहानी को अपने मित्रों के साथ साझा करके हमारा मनोबल जरूर बढ़ाए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button