Spirituality

अगर आप भी बिस्तर पर खाते हे खाना तो हो जाये सावधान वरना जीवन भर पछताना पड़ेगा, जानिए कैसे ..?

इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में आम आदमी के पास समय की इतनी कमी है कि शरीर के लिए जो काम जरूरी होते हैं वो भी हम इस भाग दौड़ के चक्कर में भूल जाते हैं. इन्ही कामों में एक काम खाना खाने का होता है जिसे हम आम तौर पर डाइनिंग टेबल या फिर ज़मीन पर बैठकर खाते हैं. लेकिन आजकल समय की कमी के चलते हम खाना खाने के लिए डाइनिंग टेबल तक जाने का समय नहीं निकाल पाते और बिस्तर पर ही खाना खाते हैं लेकिन ऐसा करना हमारी सेहत पर बुरा प्रभाव डालता है.

शास्त्रों में भी साफ़ तौर से इस बात का जिक्र किया गया है कि कभी भी बिस्तर पर बैठकर खाना नहीं खाना चाहिए क्योंकि इसका शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है. कई जगह इस बात का भी वर्णन किया गया है की अगर आप बिस्तर पर बैठकर खाना खाते हैं तो आपके घर में अशांति बनी रहती है साथ ही दरिद्रता भी आती है. शोध में पाया गया है कि ये बातें काफी हद तक सच साबित हुई हैं.कुछ कार्य ऐसे भी होते हैं जो बहुत साधारण लगते हैं लेकिन ज्योतिष के अनुसार वे शुभ नहीं होते. दूसरे शब्दों में कहें तो वे मनुष्य के जीवन से सुख और समृद्धि को नष्ट करते हैं. ऐसे कार्यों से सदैव दूर रहना चाहिए. जानिए रोजमर्रा के जीवन में हमको किन-किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए . 

Advertisement

1-जो लोग अपने जूते-जुराब और चप्पलें व्यवस्थित ढंग से नहीं रखते, उनके जीवन में शत्रुबाधा आती है. घर में जूते-चप्पल हमेशा व्यवस्थित ढंग से रखने पर ये सुंदर लगते हैं. इससे घर में सुख-समृद्धि का वास होता है.

2-बिस्तर पर बैठकर भोजन नहीं करना चाहिए. भोजन जहां भी करें अपनी जूठी थाली वहां न छोड़ें. जो लोग जूठी थाली छोड़ते हैं, उनके कार्यों में रुकावट आती है. शनि के दुष्प्रभाव से उनके जीवन में सफलता का मार्ग अवरुद्ध होता है.

3-द्वार पर आकर कोई व्यक्ति पीने के लिए पानी मांगे तो उसे मना नहीं करना चाहिए. पानी के लिए मना करने वाले व्यक्ति को अन्न-धन के संकट का सामना करना होता है. ऐसा व्यक्ति अकाल मृत्यु को आमंत्रण देता है.

4-अगर किसी विशेष पर्व या तीर्थ में दान करें तो यह ऐसी वस्तु हो जो उपयोग में ली जा सके. पुरानी, कबाड़ हो चुकी तथा उपयोग के लिए अनुपयुक्त वस्तु का दान करने से दुर्भाग्य की प्राप्ति होती है.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close