Hindi Story

101+ Awesome Short Stories in Hindi with Moral for Kids 2022

Advertisement

कहानियाँAwesome Short stories in Hindi with moral for kids 2022 :- बचपन जब भी याद आता है, तो नानी और दादी द्वारा सुनाई प्रेरणादायक कहानियां दिमाग में घूमने लगती है, और बात जब कहानियों की हो और बच्चों को याद ना करे तो बात अधूरी सी लगती है । ज्यादातर कहानियां छोटे बच्चो को मनोरंजन और प्रेरणा देने हेतू सुनाई जाती है।

एक अच्छी Hindi Short Story को अपने बच्चों से कहने पर उसे जीवन में बहुत कुछ सीखने को मिलता हे। आपके द्वारा या बड़े बुजुर्गो के सानिध्य से बच्चों का जीवन नवनिर्माण की और बढ़ता हे। इसलिए जब भी समय मिले अपने बच्चो को Moral Stories in hindi जरूर सुनाइए । ताकि आपका बच्चा उनसे अच्छी शिक्षा प्राप्त करे और अपना व्यक्तित्व निखार पाए ।

आजकल तो जमाना इंटरनेट और डिजिटल मीडिया का आ गया है, इसलिए बच्चों की कहानियां भी अलग अलग स्वरूप में उपलब्ध हो जाती है, किंतु अगर आप अपने बच्चे को साथ में बैठाकर हमारी hindi story short सुनाइए तो बच्चे पर सकारात्मक प्रभाव जरूर पड़ेगा । तो फिर आपका ज्यादा समय बर्बाद किए हम नीचे लिखीं प्रेरणादायक कहानियां पढ़ते है और मनोरंजन के साथ अपने बच्चों को शिक्षा का पाठ भी पढ़ाते हे।

Page Contents

Amazing 101+ Short Stories in Hindi for Kids – 2022

अपने बच्चों को मनोरंजन के साथ प्रेरणा देने हेतू हमने यह लेख Moral Stories Short of Hindi लिखा है, ताकि आपके बच्चे इससे कुछ सीख सके । हमारा यह लेख Inspirational Short Stories in Hindi सभी बड़े और छोटे लोगो के लिए प्रेरणाप्रद है। तो आइए हम पढ़ते हे आज की पहली Hindi Story with moral.

1. शेर और बंदर की कहानी | Short Stories in Hindi with Moral

एक घने जंगल में एक बार शेर अपने शिकार को खा रहा था, शिकार बड़ा होने के कारण शेर उसे थोड़ी जल्दी-जल्दी खा रहा था । ताकि दूसरे शिकारी उसके शिकार को चुरा ना ले । इस जल्दबाजी में शिकार की एक मोटी हड्डी शेर के गले में फस गई ।

Advertisement
Sher or Bandar Short Hindi Story with Moral
शेर और बंदर की कहानी

बहुत प्रयास के बाद भी शेर उस हड्डी को नही निकाल पा रहा था । थोड़ी देर में शेर की हालत बिगड़ने लगी, किंतु उसे हड्डी निकालने का कोई उपाय नहीं सूझ रहा था । तभी उसे उछल-कूद करता हुआ एक बंदर दिखाई दिया । शेर ने बंदर को आवाज लगाई और कहाँ की तुम अपने हाथ से मैरे गले में फसी हड्डी को निकाल दो । बंदर थोड़ा डर गया, किंतु शेर ने कहां की तुम मेरी मदद करो मैं जंगल का राजा हूं, तुम्हे अच्छा ईनाम दूंगा ।

बंदर ईनाम के लालच में आकर शेर की मदद करने हेतु तैयार हो गया और शेर के गले से हड्डी निकाल दी । हड्डी निकल जाने पर शेर वहां से जाने लगा । तब बंदर ने कहां महाराज मेरा ईनाम? यह बाद सुनकर शेर रुका और बोला तुम्हारा हाथ मेरे मुंह से सुरक्षित निकल गया और तुम्हे प्राण दान दिया मैंने यही तुम्हारा ईनाम हे। यह बात सुनकर बंदर उदास हो गया और फिर से उछल-कुद करने लगा ।

सिख – प्रेरणा

Advertisement

अयोग्य और धूर्त लोगों की मदद कभी नही करनी चाहिए, क्योंकि वह सदैव अपने स्वभाव स्वरूप अंत में धोखा जरूर देते है।

2. दो लड़कों की कहानी | Two Boy’s Short Stories in Hindi

एक गांव में बहुत से लड़के खेलते-खेलते घर से दूर निकल जाते है, खेल कुद में मस्त होने के कारण उनको ना समय की परवाह थी ना ही भोजन की । तभी खेलते हुवे उनमें से दो लड़के एक गहरे कुवे में गिर जाते है। कुंआ बहुत गहरा था, इस कारण सभी लड़के घबरा जाते हे । किन्तु सभी के बहुत प्रयास करने के बाद भी वह उन दोनो लड़कों को कुंवे से बाहर नहीं निकाल पाते है।

नीचे कुंवे में फसे दोनों लड़के भी दीवार चढ़कर बाहर आने का प्रयास करते रहते हे। कुंवे के ऊपर वाले सभी लड़के जोर जोर से चिल्लाते हे की प्रयास मत करो कुंआ गहरा है, तुम बाहर नहीं निकल पाओगे । किन्तु नीचे फसे लड़के अपना प्रयास जारी रखते है। कुछ समय निकल जाने पर एक लड़का ऊपर वाले दोस्तों की बात से निराश हो जाता है और सोचता हे की सच में बाहर निकल पाना कठिन हे, और वह बाहर निकलने का प्रयास बंद कर देता है ।

दूसरा लड़का निरंतर ऊपर चढ़ना जारी रखता है, और बहुत प्रयासों के बाद अंत में कुएं से बाहर निकल आता है। यह देखकर सभी बहुत चकित हो जाते है। दोनों दोस्त कुएं में गिरे किंतु एक लड़के ने प्रयास बंद नही किया था, क्योंकि उसे सुनाई नही देता था, और वह सोच रहा था की ऊपर वाले दोस्त उसे बाहर निकलने के लिए प्रोत्साहित कर रहे है, ताकि वह बाहर निकल सके ।

सिख – प्रेरणा

जब तक आप दूसरों की राय को अपनाकर निर्णय लेंगे तबतक सही से आप अपना भला नही कर सकते । सदैव दूसरों की सुने किंतु हमेशा अपना स्वंविवेक प्रयोग में लाए ।

3. गिलहरी और बंदर की कहानी : Simple Short Motivation Stories in Hindi

बारिश का मौसम गुजर गया था और फिर से गर्मियां शुरू हो गई थी । एक बंदर पेड़ पर इधर-उधर खेल कूद रहा था । तभी एक गिलहरी अपने हाथ में खाना लिए पेड़ पर चढ़ रही थी । गिलहरी को देखकर बंदर ने कहां – “अरे कहां जा रही हो आ जाओ थोड़ी मस्ती करते है । देखो कितना सुहावना मौसम हो रखा है। “

गिलहरी और बंदर की कहानी | Simple Short Motivation Stories in Hindi
गिलहरी और बंदर की कहानी

यह बात सुनकर गिलहरी बोली “बंदर भाई सर्दियां आने वाली हे और मुझे बहुत सारा खाना जमा करना हे सर्दियों के लिए आप ही खेलों मुझे समय नहीं है” । गिलहरी की इस बात पर बंदर हंसता है और कहता है अभी तो सर्दियों में बहुत समय हे तुम व्यर्थ चिंता कर रही हो । किन्तु गिलहरी अपने कार्य में लगी रहती हे।

कुछ दिनों बाद सर्दियों शुरू हो जाती हे, और जंगल में सारा खाना खत्म हो जाता हे। किन्तु गिलहरी अपने जमा किए हुवे भोजन से आराम से पेट भरती है। यह देखकर बंदर को पछतावा होता हे की आखिर उसे भी कठिन समय के लिए अधिक परिश्रम करके भोजन एकत्रित करना चाहिए था ।

शिक्षा – प्रेरणा

वर्तमान में अगर आप कठिन परिश्रम करोगे तो उसका फल भविष्य में आपको जरूर मिलता है।

यह Hindi Short Story जरूर पढ़े :- एक बालक की ईमानदारी

4. संगठन में शक्ति है : Short Moral Stories in Hindi for Class 1

एक जंगल में बहुत सारे तोते पक्षी एक साथ रहते थे, सभी हंसी खुशी से अपना जीवन यापन कर रहे थे । एक दिन सुबह सभी तोते दाना चुगने के लिए गांव की और निकल पड़े । गांव में एक अनाज का भंडारगृह था। सभी वहां दाना चुगने पहुंच गए । भंडारगृह का मालिक पक्षियों से बहुत परेशान था, इसलिए उसने पहले से जाल बिछा रखा था ।

जब सभी तोते दाना चुगने लगे तो वह पहले से बिछे जाल में फस गए । इस तरह सभी परेशान हो गए और प्रयास करने लगे जाल से बाहर आने का । किन्तु उनके सभी प्रयास विफल रहे । फिर उनमें से एक समझदार तोते ने सभी को कहां की अलग-अलग प्रयास करने से अच्छा है, हम सब एकसाथ प्रयास करे उड़ने का । उसकी बात में सभी को दम लगा और सभी ने एकसाथ उड़ान भरी । उनके ऐसे एकसाथ ताकत लगाने से जाल ऊपर उठ गया और उनके साथ ही उड़ चला ।

तोते जाल के साथ ही उड़ गए और उनका यह नजारा भंडारगृह का मालिक भी देख रहा था, और सोचने लगा कि सच में एकता में बल है। जंगल में जाकर तोतो ने अपने मित्र चूहे से जाल कटवा लिया और फिर से हंसी खुशी अपना जीवन व्यतीत करने लगे ।

सिख

एकता में ही बल होता हैं, अगर आप संघठित रहोगे तो कोई भी शक्तिशाली आपको कभी नुकसान नही पहुंचा पाएगा ।

5. दो दोस्त और नदी की कहानी : Kids Short Stories in Hindi with Moral

एक गांव में दो दोस्त रहते थे । दोनो में बहुत घनिष्ठ मित्रता थी । एक दिन दोनों से सोचा क्यों ना जंगल में जाकर शिकार किया जाए । दोनों शिकार के लिए जंगल की और निकल गए । गर्मियों का मौसम था, और बहुत देर से शिकार की तलाश में भटकने पर भी दोनों को कोई शिकार नही मिला । अब भूख और प्यास के मारे दोनो दोस्तो की हालत खराब होने लगी ।

कुछ देर और तलाश करने पर उनको पानी के बहने की तेज आवाज सुनाई देने लगी । दोनो आवाज की और दौड़ पड़े । दोनों ने देखा एक नदी बह रही है। दोनो दोस्तो ने नदी के पानी से अपनी प्यास बुझाई । तभी एक लड़के ने कहां यार नदी में अवश्य मछली होगी । चलो मछली पकड़ते हे। किन्तु पानी का बहाव बहुत तेज होने के कारण नहीं में कोई भी मछली नही थी । तब एक लड़के ने अपने मित्र से कहां यार यह इतनी बड़ी नदी बिलकुल बेकार है । किसी काम की नहीं । तभी नदी ने आवाज लगाई “इंसान हो किंतु एहसान फरामोश हो, अगर इस वक्त मैने तुम दोनों की प्यास ना बुझाई होती तो तुम्हारी मृत्यु निश्चित थी। थोड़े तो कृतघ्न बनो” । दोनो लड़कों को अपनी गलती का अहसास हुआ और नदी को आभार प्रकट कर अपने घर की और चल पड़े ।

शिक्षा – Moral of Story

ईश्वर द्वारा रचित प्रकृति में सभी का महत्व होता है, किसी के भी मूल्य को बेकार ना समझे ।

6. लोमड़ी और खट्टे अंगूर की कहानी | Short Inspirational Stories in Hindi for Class 2

एक जंगल में एक चालाक लोमड़ी रहती थी । वह दिन भर शिकार की तलाश में घूमती रहती थी । एक बार जंगल में नया शेर आ गया और उसने जंगल पर कब्जा कर लिया । शेर ने जंगल में बुलवा दिया की इसके शिवा कोई भी शिकार करेगा तो वह उसे मार देगा ।

अब जंगल में शिकार ना मिलने के कारण लोमड़ी ने दूसरे जंगल में जाने की सोची और निकल पड़ी । रास्ते में उसे बहुत तेज भूख लगी किंतु शिकार कही भी नही दिखाई दिया ।

लोमड़ी भूख से बहुत व्यथित हो गई और इधर उधर देखने लगी । थोड़ी दूर देखने पर उसे एक बगीचा दिखाई दिया । भूख से व्याकुल लोमड़ी बगीचे में चली गई । चारों ओर घने भांति भांति के फलों के पेड़ थे । लोमड़ी को एक सुंदर और अंगूरों से भरा पेड़ दिखाई दिया । लोमड़ी के मुंह से पानी आने लगा । लोमड़ी ने अंगुरो की तरफ छलांग लगाई, किंतु पेड़ अधिक ऊंचाई पर होने के कारण लोमड़ी को अंगूर नही मिले ।

लोमड़ी ने फिर छलांग लगाई, किंतु इस बार भी लोमड़ी को अंगूर हाथ नही आए । उसने बार-बार प्रयास किया । किन्तु एक बार भी लोमड़ी को अंगूर नही मिले । आखिर में लोमड़ी थक गई और निराश परेशान होकर बगीचे से जाने लगी । जाते जाते लोमड़ी ने कहां कोई बात नही आखिर यह अंगूर खट्टे ही तो थे ।

सिख – प्रेरणा

इस कहानी से हमें शिक्षा मिलती है की कठिन परिश्रम से भी कभी कभी फल नहीं मिलता है, किंतु इसका मतलब यह नहीं की हम प्रयास करना छोड़ दे और मंजिल को ही गलत ठहराए ।

7. गड़रिया और शेर की कहानी | Good Short Stories in Hindi for Kids

एक गांव में एक गड़रिया रहता था । उसके पास बहुत सी बकरिया थी । वह उनको चराने के लिए पहाड़ी पर ले जाता था । एक दिन उस गड़रिए को शरारत सूझी । उसने गांव वालो को परेशान करने हेतु, जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया की बचाओ बचाओ शेर आ गया, शेर आ गया ।

उसकी आवाज सुनकर सभी गांव वाले पहाड़ी की तरफ भागे । किन्तु वहां कोई शेर नही था । गड़रिया हंसकर बोलने लगा की वह तो मजाक कर रहा था, और देख रहा था की तुम सब आते हो की नही । इस बात को सुनकर सभी गांव वाले गुस्सा हुवे और वापस गांव की और चल दिए ।

दूसरे दिन गड़रिया फिर से पहाड़ी पर बकरिया चराने चला गया । कुछ समय बाद सच में शेर आ गया । गड़रिए की हालत खराब हो गई । उसने जोर-जोर से आवाज लगाई शेर आ गया शेर आ गया, बचाओ-बचाओ । किन्तु इसबार सभी गांव वाले उसकी आवाज सुनकर भी नही आए, और शेर ने एक एककर सभी बकरिया मार दी और खा गया । गड़रिए को अपनी गलती का अहसास हुआ कि कल का मजाक आज उसे भारी पड़ गया । उसने गांव जाकर सभी से माफी मांगी ।

प्रेरणा – Hindi Story with Moral

अपनो के साथ किया गया मजाक सभी सच भी बन जाता है, और आप मुसीबत में फस जाते हो । तब आपका विश्वास कोई नही करता हे । इसलिए बिना सोचे समझे कभी गलत मजाक ना करे।

यह Hindi Story भी पढ़े :- तोरण मारने की प्रथा

8. लालची औरत की कहानी | Kids Short Story hindi for Class 3

एक गांव में एक सेठ रहता था । वह गांव वालों को कोई भी वस्तु उधार तभी देता था । जब गांव वाले उसे अपनी कोई वस्तु बदले में दे । एक दिन एक गरीब किसान सेठ की दुकान पर आया और उससे कुछ सामान उधार मांगा ।

सेठ ने किसान से कहां उधार तो तुझे दे दूंगा किंतु तुझे बदले में अपनी कोई चीज देनी पड़ेगी । किसान उदास हो गया और सेठ से कहने लगा की उसके पास तो कोई रुपए हे नही ना ही कोई कीमती वस्तु है। हा उसके पास एक मुर्गी जरुर हे वह आपको दे देता हूं । सेठ मान गया और किसान को समान दे दिया ।

सेठ मुर्गी को अपने घर ले आया । मुर्गी को देखकर सेठानी परेशान हो गई और बोली अब इसको और खिलाना पड़ेगा । दूसरे दिन सेठानी मुर्गी को दाना डालने गई । तो देखा मुर्गी ने एक अंडा दिया है वह भी सोने का । सेठानी बहुत खुश हो गई । अब तो सेठानी रोज एक सोने का अंडा पाकर खुशी से फूली नहीं समा रही थी ।

धीरे-धीरे सेठानी का लालच बढ़ता गया, और एक दिन उसने सोचा कि रोज रोज एक अंडे से अच्छा है एकसाथ ही सारे अंडे निकाल लू। सेठानी ने मुर्गी को पकड़ा और उसका पेट चीर दिया । किन्तु मुर्गी के पेट में कोई भी अंडा नही था । अब सेठानी को बहुत रोना आया और अपनी गलती का अहसास हुआ की उसके लालच के कारण उसे रोज एक सोने के अंडे से भी हाथ धोना पड़ा ।

सिख – शिक्षा

लालच बुरी बला होती हैं । इंसान को हमेशा जितना मिल रहा है उतने में भी खुश रहने का प्रयास करना चाहिए । ताकि जीवन खुशहाली से भर जाए।

9. हिरण और लोमड़ी की कहानी: Short Animal Stories in Hindi

एक बार जंगल में लोमड़ी शिकार करने के लिए भटक रही थी । उसे आज कोई शिकार नही मिला तो वह परेशान होकर घने जंगल में चली गई। जंगल घना होने के कारण उसे ठीक से दिखाई नही दिया और वह एक कुएं में गिर गई ।

लोमड़ी और हिरण की कहानी | Short Animal Stories in Hindi for Kids
लोमड़ी और हिरण की कहानी

कुंआ गहरा था इसलिए लोमड़ी ने ऊपर आने के लिए कई बार छलांग लगाई पर उसे सफलता नहीं मिली । इससे थककर वह बैठ गई । कुछ समय बाद एक हिरण उधर से गुजर रहा था । उसने लोमड़ी को कुएं में देखा तो बोला । लोमड़ी बहन आप कुएं में क्या कर रहे हो ।

चालाक लोमड़ी को एक तरकीब सूझी । लोमड़ी ने हिरण से कहां “अरे तुम्हे पता नही बहुत जल्द जंगल में अकाल पड़ने वाला है, और सारा खाना खत्म हो जाएगा । इसलिए में इस कुएं में आ गई और सबसे पहले कब्जा कर लिया । कम से कम यहां पीने को पानी तो मिलेगा । तुम भी एक काम करो कुएं के अंदर आ जाओ। “

हिरण को लोमड़ी की बात में दम लगा और वह भी कुएं में कूद गया । हिरण के कुएं में आते ही तुरंत लोमड़ी उसके ऊपर चढ़ गई और ऊपर की ओर छलांग लगाकर कुएं से बाहर निकल गई । हिरण देखता ही रह गया और अंत में उसके पास पछतावे के सिवा कुछ नहीं था ।

प्रेरणा – Inspirational Short Stories Hindi

इससे हमको यह सिख मिलती है की कभी भी धूर्त लोगों पर विश्वास नहीं करना चाहिए । ऐसे लोग केवल अपने स्वार्थ को सिद्ध करना जानते है।

10. शरारती भेड़ का बच्चा कहानी | Very Short Motivation Stories in Hindi for Class 4

एक गांव में एक किसान रहता था । उसके पास बहुत सी बकरियां और भेड़े थी । उन भेड़ों में से एक भेड़ ने अभी कुछ दिन पहले ही बच्चा दिया था । अब आपको तो पता ही हे बच्चे कितने शरारती होते हे। बच्चे का छोटू था । एक दिन छोटू खेलते हुवे किसान के बाड़े से बाहर निकल कर गांव में घूमने चला गया ।

छोटू को बाड़े में ना पाकर उसकी मां बहुत परेशान हो गई और उसे ढूंढने गांव में निकल गई । कई जगह ढूंढने पर भी छोटू नही मिला तो वह आवाज लगाने लगी, छोटू छोटू । उसकी आवाज सुनकर भेड़ का बच्चा आ गया । तब छोटू की मां ने कहां की मैने तुम्हे कितनी बार मना किया हे, बाड़े से बाहर मत निकला करो ।

दूसरे दिन छोटू फिर से गांव में घूमने चला गया । अबकी बार भेड़ को बहुत ज्यादा चिंता हुई । उधर छोटू को गांव में आवारा कुत्तों ने घेर लिया उसका शिकार करने के लिए । बाड़े में भेड़ बहुत आवाज करने लगी । उसकी आवाज सुनकर किसान ने सोचा जरूर कुछ बात है। किसान भेड़ के पीछे गांव में गया तो देखा कुत्तों ने छोटू को घेर रखा है।

किसान ने कुत्तों को आवाज लगाकर भगा दिया, और छोटू को वापस बाड़े में ले आया । तब छोटू की मां ने रोकर कहां देखा आज तुम्हारी लापरवाही की वजह से जान भी जा सकती थी तुम्हारी । छोटू ने अपनी मां को गले लगाया और आगे से उसकी बात मानने का वादा किया ।

सिख – Class 4 Short Stories In Hindi with Moral

हमें हमेशा अपने बड़ों की बात को मनाना चाहिए । क्योंकि वह सदैव हमारे हित का ही सोचते हे।

Short stories in hindi से आज आपने क्या सीखा?

अगर आज आपने हमारा यह लेख Awesome Short Stories in Hindi with Moral for Kids पूरा पढ़ा होगा तो आशा है आपको और आपके बच्चों को जरूर प्रेरणा मिली होगी जिससे वह अपने जीवन पथ पर सकारात्मक रूप से आगे बढ़ पाएगा ।

आपको लगता है की हमारा यह आर्टिकल Short Stories in hindi से कुछ सीखने को मिला है, तो यह लेख आप अपने मित्रों और रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करे । ताकि उनके बच्चों को भी कुछ अच्छा सीखने को मिले । आप हमसे Facebook के माध्यम से भी जुड़ सकते हे । हम आगे भी इस लेख में Motivational Short Stories in Hindi जोड़ते रहेंगे ताकि आपका और मनोरंजन हो सके ।

FAQ’s Short Stories in Hindi

Q 1. बचपन में बच्चों को कहानियाँ सुनाने से क्या फायदा?

Ans. दादी और नानी द्वारा सुनाई कहानियों में कुछ ना कुछ सीख अवश्य होती हे । इसलिए अगर बचपन में बच्चों को कहानियां सुनाएंगे तो उनके जीवन में सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा और बच्चों को अपने चरित्र निर्माण में फायदा मिलेगा ।

Q 2. कहानी लिखते समय क्या ध्यान में रखना चाहिए?

Ans. एक अच्छी और प्रेरणा देने वाली कहानी लिखते समय यह जरूर ध्यान देना चाहिए की आपकी कहानी जिस मकसद या प्रसंग को ध्यान में रखकर लिखी जा रही हैं । वह पाठक को सही से समझ आए ।

Q 3. कहानियां क्यों सुनी जाती है?

Ans. हर कहानी के पीछे कुछ ना कुछ सीख जरूर होती है । कहानी सुनने के दौरान आपका बच्चो एक अलग ही खयालों की दुनिया में खो जाता हे, जिससे उसका मन सुदृढ़ होता हे। प्रतिदिन कहानी सुनने से आपकी भाषा और श्रोता दोनो शक्ति में विकास होता हे ।

Q 4. कहानी के प्रमुख तत्व कौन-कौनसे है?

कहानी मूल रूप से अपने बच्चो को मनोरंजन और शिक्षा देने हेतू कही जाती हे । कहानी में प्रमुख रूप से 6 तत्व होने जरूरी है, जैसे : विषयवस्तु अथवा कथानक, चरित्र, संवाद, भाषा शैली, वातावरण और उद्देश्य।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button