Kuldevi

श्री बाण माता : कुलदेवी सिसोदिया क्षत्रिय वंश ( गोहिल वंश )

सिसोंदिया / गुहिल राजवंश की कुलदेवी “श्री बाण माता” 

इतिहासिक सूत्रो के मुताबिक सिसोंदिया , गहलौत राजवंश की कुलदेवी का नाम बायण माता या बाण माता इसलिये है क्यो कि जब हमारे पूर्वज सौराष्ट्र ( गुजरात ) से यहा चित्तौडगढ आये तब वहा गुजरात में नर्मदा नदी से जो पाषाण निकलते थे उनसे जो शिव जी की स्थापना होती थी ,

सिसोदिया वंश की कुलदेवी "बाण माता"

Google News Follow Us
Telegram Group Join Now

उन्हे बाण लिंग कहा जाता था जिनके नाम से मेवाड में बाणेश्वर जी का मंदिर भी है , उन्ही बाणेश्वर महादेव की देवी पार्वती जी का एक अंश माँ बाण के रूप में प्रगट हुआ , मानते है जिन्होने प्राचीनकाल में बाणासुर नामक दैत्य का वध किया था , इसी लिये माँ दुर्गा माता का वह स्वरूप बाण माता के नाम से विख्यात है । जिनके उपासक सिसोंदिया ,गहलौत , चुण्डावत के सभी कुल है ।******* जय माँ श्री बाणेश्वरी माता जी **********

राजपूत वंशो की कुलदेवी से जुड़े अन्य लेख जरूर पढ़े 

  1. राठौड़ वंश की कुलदेवी ( नागणेची माता )
  2. तौमर/तँवर वंश की कुलदेवी ( चिल्लाय माता )

Vijay Singh Chawandia

I am a full time blogger, content writer and social media influencer who likes to know about internet related information and history.

Related Articles

Back to top button